Arunachal Pradesh की राजधानी कहा है (Capital Of Arunachal Pradesh in Hindi)

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani) – आज हम इस पोस्ट में आपको बताएंगे की अरुणाचल प्रदेश की राजधानी (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani) कहां है ?तथा अरुणाचल प्रदेश की राजधानी (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani) में कौन-कौन से पर्यटन स्थल है अरुणाचल प्रदेश की सांस्कृतिक एवं उससे जुड़ा इतिहास भी हम आपको इस पोस्ट में के माध्यम से बताने वाले हैं

तो आप भी अगर अरुणाचल प्रदेश एवं अरुणाचल प्रदेश की राजधानी (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani) के बारे में जानने के इच्छुक हैं तो आप इस पोस्ट को ध्यान से व पूरा पढ़ें। तो चलिए बिना देरी किए हुए हम आगे बढ़ते हैं और अरुणाचल प्रदेश की राजधानी क्या है (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani Kya Hai) के बारे में पूरा विस्तार पूर्वक जानने की कोशिश करते हैं।

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी कहां है? (Capital of Arunachal Pradesh)

Arunachal Pradesh Ki Rajdhani kya hai

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी “ईटानगर “है। भारत देश के उत्तरी पूर्वी भाग में स्थित अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर है, अरुणाचल प्रदेश की राजधानी की वजह से यह प्रदेश के मुख्य शहरों की सूची में ऊपर आता है यह हिमालय की तराई में आता है। ईटानगर बहुत ही खूबसूरत शहर है।

ईटानगर राजधानी होने के कारण यहां पर सड़कों की अच्छी व्यवस्था है यह गुवाहाटी से सीधे सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है जिससे एक शहर से दूसरे शहर जाने में कोई परेशानी नहीं होती है तथा आप यहां आसानी से यातायात कर सकते हैं दूर-दूर से पर्यटक यहां इस शहर की अद्भुत खूबसूरती व सौंदर्य को देखने के लिए आते हैं।

पर्यटको को कोई दिक्कत का सामना ना करना पड़े इसके लिए गुवाहाटी और इटानगर के नहारलागुन के बीच उन्हें हेलीकॉप्टर सेवा का भी विकल्प मिलता है हेलीकॉप्टर के अलावा पर्यटक चाहे तो बसों द्वारा भी गुवाहाटी से ईटानगर तक पहुंच सकते हैं तथा यहां से डीलक्स बसें भी उपलब्ध है।

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी का इतिहास

ईटानगर के इतिहास की बात की जाए तो ईटानगर शब्द से ही इसका ज्ञान होता है कि ईटानगर का नाम ईटा दुर्ग से आया है इस शहर में एक पर्यटक स्तर मौजूद थे जिससे ईटा किला के नाम से जाना जाता है ईटा किला इस शहर की ऐतिहासिक धरोहर है और इस ऐतिहासिक धरोहर के नाम पर ही इस शहर का नाम ईटानगर रखा गया है।

अगर बात की जाए इस किले के निर्माण काल की तो कथनों के अनुसार इसका निर्माण 14वी–15वी शताब्दी के आसपास हुआ था तथा इसका निर्माण जित्री राजवंश के राजा मायापुर ने करवाया था। पर्यटक इस किले में कई सारे खूबसूरत दृश्य देख सकते हैं तथा इन नजारों का आनंद उठा सकते हैं वर्तमान में इस किले को राजभवन के नाम से जाना जाता है और यह राज्यपाल का सरकारी आवास है।

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी की जनसंख्या एवं क्षेत्रफल

बात की जाए जनसंख्या की तो वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार ईटानगर शहर की जनसंख्या लगभग 59,490 के करीब है यंहा की कुल जनसंख्या में स्त्री व पुरुष में प्रतिशत की बात करें तो यहां की आबादी में पुरुष की संख्या 53% तथा महिलाओं की संख्या 47% थी।बात करे साक्षरता दर की तो ईटानगर की साक्षरता दर भारत देश की औसत साक्षरता दर से नीचे है इस शहर कुल साक्षरता दर 66.95% है।
अरुणाचलप्रदेश की राजधानी ईटानगर समुद्र तल से 350 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी की भूगोल एवं जलवायु

ईटानगर के भूगोल एवं जलवायु की बात करें तो यह हिमालय पर्वत की तलहटी में स्थित है यहां पर महासागरीय जलवायु पाई जाती है।ऊंचाई के साथ जलवायु बदलती रहती है जैसे-जैसे अधिक ऊंचाई का क्षेत्र आता है वैसे वैसे क्षेत्र में एक अल्पाइन या टूड्रा जलवायु का आनंद लेते हैं मध्य हिमालय के पास के क्षेत्र समशीतोष्ण जलवायु का अनुभव करते हैं उप हिमालय और समुद्र स्तर की ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बहुत गर्म ग्रीष्म काल और हल्की सर्दियां के साथ आंध्र उपोष्णकटिबंध जलवायु का अनुभव होता है यहां पर बहुत भारी वर्षा होती है भारी वर्षा के कारण जंगल विकास में विलासितापूर्ण है और इस क्षेत्र में बड़ी संख्या में नदियों और झीलों के लिए भी बारिश होती है वर्षा ऋतु मई से सितंबर तक होती है।

प्राकृतिक सुंदरता का धनी होने के कारण मौसम के अनुरूप इसकी सुंदरता बढ़ती जाती है साल के अक्टूबर माह से अप्रैल माह तक के समय मौसम यहां काफी सुहावना रहता है।

अरुणाचल प्रदेश के राजधानी में स्थित पर्यटन स्थल

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर मुख्य रूप से अपने पर्यटक स्थलों के लिए जाना जाता है पर्यटक स्थलों में यहां झील, राष्ट्रीय उद्यान एवं संग्रहालय आदि विकल्प पर्यटकों के पास होते हैं क्योंकि ईटानगर शहर का नाम ईटा के किले के ऊपर ही पड़ा है।

ईटा फोर्ट

ईटा का किला यहां के मुख्य आकर्षण केंद्र में से एक है यह किला पुराने समय की एक प्राचीनतम एवं ऐतिहासिक धरोहर का स्वारूप है जो कि एक मनोरम स्थान है यह किला पापुमपारे जिले में स्थित है जोकि पर्यटको का सबसे पसंदीदा पर्यटक स्थल में आता है।

बौद्ध मंदिर

यहां पर एक बौद्ध मंदिर है जिसके निर्माण शैली तिब्बती है जोकि पर्यटक स्थलों में अपना नाम शुमार रखता है वह गुरु दलाई लामा भी इसकी यात्रा कर चुके हैं इस मंदिर की छत पीली है तथा इस मंदिर की छत से पूरे ईटानगर के खूबसूरत स्थल देखे जा सकते हैं।

गंगा झील

गंगा झील पर्यटकों का एक महत्वपूर्ण आकर्षण का केंद्र है चारों तरफ से यह झील पहाड़ियों से गिरी हुई है जिसके आस पास बहुत सी हरियाली है एवं वहां का शांत वातावरण पर्यटक को को अपनी और आकर्षित करता है गंगा झील ईटानगर से 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है झील के पास एक खूबसूरत जंगल भी है जिसमें अनेक प्रकार के पेड़-पौधे , वन्य –जीव एवं वनस्पतियां है पर्यटकों को यहां जरूर घूमना चाहिए।

जवाहरलाल नेहरू संग्रहालय

बौद्ध मंदिर में ही एक संग्रहालय का निर्माण किया गया है जिसका नाम जवाहरलाल नेहरू संग्रहालय रखा गया है इस संग्रहालय में संग्रहित चीजों से पर्यटकों को भी पूरे अरुणाचल प्रदेश राज्य की एक झलक देखने को मिलती है तथा वहां की संस्कृति का पता चलता है।

इनके अलावा अन्य पर्यटन स्थलों में दोन्य पोलो विद्या भवन इंदिरा गांधी उद्यान, विज्ञान संस्थान एवं अभियांत्रिकी संस्थान इत्यादि है जिनमें पर्यटक जा सकते हैं एवं इसके अलावा यहां शानदार हाथ से बनी वस्तुएं ,लकड़ी से बनी खूबसूरत वस्तुएं भिन्न-भिन्न प्रकार के वाद यंत्र एवं सुंदर कलाकृतियां, कपड़े भी मिलते हैं जिन्हें संग्रहालय में देखा जा सकता है ।

यहां के पर्यटन स्थलों के अलावा इसके समीप अरुणाचल प्रदेश में कुछ और भी पर्यटक स्थल है जिनमें नामदाफा राष्ट्रीय उद्यान ,रूपा हिल स्टेशन स्थानों का नाम आता है क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान नामदाफा राष्ट्रीय उद्यान है जो कि अपनी जैव विविधता एवं उसके संरक्षण के लिए मशहूर है साथ ही साथ यहां पर अनेकों अद्भुत प्रकार की वन संपदा भी मौजूद है रूपा हिल स्टेशन इटानगर से करें 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यह एक बहुत ही शानदार पर्यटक स्थल है यहां से पर्यटक को प्रकृति के बेहत ही खूबसूरत दृश्य देखने को मिलते हैं।

अरुणाचल प्रदेश एवं अरुणाचल प्रदेश की राजधानी (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani) का धार्मिक एवं सांस्कृतिक दृष्टिकोण

ऐसा माना जाता है कि महाभारत एवं कल्कि पुराण में अरुणाचल प्रदेश का उल्लेख मिलता है यह पुराणों में वर्णित प्रभु पर्वत नामक स्थान है
ऐसा कहा जाता है कि भगवान परशुराम ने यहां अपने पापों का प्रेषित किया था ऋषि व्यास ने यहां आराधना की थी राजा भीष्म अपने यहां अपना राज्य बसाया तथा भगवान श्री कृष्ण ने रुकमणी जी से यहां पर विवाह किया था।अरुणाचल प्रदेश के विभिन्न भागों में खेलें पुरातात्विक अवशेषों से पता चलता है कि इसकी एक समृद्ध सांस्कृतिक परंपरा रही होगी।

धार्मिक और सांस्कृतिक रूप से इस शहर का काफी महत्व जुड़ा हुआ है इस शहर की संस्कृति मैं आपको क्षेत्र के पुराने संस्कृतियों की झलक देखने को मिलती है कई क्षेत्रों में तो आदिवासियों की उपस्थिति इस शहर की परंपरा और संस्कृति को पहचान मिलती है।

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani) में परिवहन एवं यातायात

भारत देश के उत्तर पूर्वी राज्य की राजधानी ईटानगर में आपको परिवहन एवं यातायात के थोड़ी कम सुविधाएं देखने को मिलती है यदि बात करें हवाई मार्ग की तो ईटानगर के लिए कोई सीधी हवाई सेवा उपलब्ध नहीं है हवाई मार्ग द्वारा जाने पर आप ईटानगर से 70 किलोमीटर की दूरी पर स्थित रोरिया एयरपोर्ट पर उतरेंगे जोकि जोरहाट में है वहां से टैक्सी या अन्य सार्वजनिक वाहन या किसी निजी वाहन के जरिए आप अपने मंजिल तक जा सकते हैं।

सड़क मार्ग

सड़क मार्ग ईटानगर को देश के अन्य मुख्य शहरों से जोड़ता है जैसे कि दिल्ली, मुंबई ,पुणे, बेंगलुरु आदि सड़क मार्ग से आप इनमें से किसी भी शहर से बुआ वाहन द्वारा ईटानगर पहुंच सकते हैं। रोडट्रिप को पसंद करने वाले लोगों के लिए सड़क मार्ग एक अच्छा विकल्प है।

रेल मार्ग

रेल मार्ग से भी ईटानगर पहुंचा जा सकता है ईटानगर से सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन असम में स्थित हरमुटी रेलवे स्टेशन एवं अरुणाचल प्रदेश का नाहरलगून रेलवे स्टेशन है यह दोनों ही रेलवे स्टेशन देश के अन्य शहरों से रेल मार्ग से अच्छी तरह जुड़े हुए हैं जिससे यहां आवागमन आसानी से किया जा सकता है।

अंतिम शब्द

आज हमने इस पोस्ट में आपको बताया की अरुणाचल प्रदेश की राजधानी कहां है (Arunachal Pradesh Ki Rajdhani Kya Hai) तथा अरुणाचल एवं अरुणाचल प्रदेश की राजधानी में कौन-कौन से पर्यटन स्थल है इसी के साथ हमने आपको अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर कि सांस्कृति के बारे में बताया। अगर आपको इस पोस्ट के संबंध कोई सुझाव या सवाल है तो हमें कमेंट के माध्यम से बताएं हमने आपको अरुणाचल प्रदेश की राजधानी के बारे में पूरा विस्तार पूर्वक बताने की कोशिश की है यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया तो हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं।


इन्हे भी याद रखे –

मेरा नाम Deepak Devadaliya है मुझे शुरुआत से ही इंटरनेट और कंप्यूटर के प्रति रुचि रही है और मैं एक बीएससी कंप्यूटर साइंस से ग्रेजुएट हूं जहां पर इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपके साथ ब्लॉगिंग संबंधी सभी चीजों को साझा करता हूं

Leave a Comment